स्वाइन फ्लू के बारे में जानकारी Swine Flu jankari Symptoms Cure Treatment H1N1 Virus #MEDDIGEST 4


Subscribe कीजिये thinkoxcin channel को और bell icon को दबाइये latest Medical science के videos सबसे पहले देखने के लिए welcome to thinkoxcin , मैं हूँ dr rupal आज के मेड digest के episode में आपका स्वागत है …दोस्तों आज का हमारा topic है एक ऐसी बीमारी के बारे में जिसने हाल ही में पुरे भारत देश में हाहाकार मचा दिया है
जी हाँ दोस्तों मैं स्वाइन फ्लू के बारे में बात कर रही हूँ…
तो दोस्तों आज हम देखेंगे के स्वाइन फ्लू किसे कहा जाता है, ये किस से होती है और इस बीमारी से बचने बचने के लिए क्या किया जाये
तो शुरू करते है इन फ्लू या h1n1 फ्लू ये एक इस तरह का फ्लू है जो h1n1 वायरस से फैलता है और ये एक संक्रामक रोग है दोस्तों अगर आप को जानना हो की ये वायरस किसको कहते है , तो इसके बारे में मैंने एक video किया है जिसका link मैंने description box में डाला है
ये h1n1 वायरस सब से पहले अप्रैल २००९ में पहचाना गया था और इस के कारण पुरे विश्व में कई लोगों की मौत हो गयी थी who ने इस रोग को जून २००९ में इस को एक महामारी घोषित किया था आमतौर पर इस वायरस के वाहक यानि की carrier सूअर या pigs होने के कारण इसे स्वाइन फ्लू कहा जाता है
पहले ये वायरस न तो जानवरों के लिए घातक था और ना ही ये मनुष्यों को प्रभावित किया करता था समय के साथ इस वायरस में बदलाव आ गया और ये महामारी का रूप लेकर जानवर और मनुष्य दोनों के लिए घातक साबित हो गया है
ये वायरस का किस तरह से बदलाव आता है वो एक मूवी में बहुत अच्छी तरह से बताया गया है , और वो मूवी है planet of the apes जिसके बारे में मैंने एक movie review किया है जिसक link मैंने description box में डाला हुआ है सर्दी और बारिश के दिनों में स्वाइन फ्लू के मरीज़ों की संख्या बढ़ जाती है
इस साल स्वाइन फ्लू की वजह से भारत में करीब करीब ६५० लोगों की मौत हुई है और इस के अनौपचारिक आकड़े और भी ज्यादा हो सकते है स्वाइन फ्लू का संक्रमण धीरे धीरे फ़ैल रहा है और इस लिए जरुरी है की स्वाइन फ्लू से बचने के लिए हर संभव कोशिश की जानी चाहिए स्वाइन फ्लू का फैलाव कैसे होता है ? स्वाइन फ्लू एक बेहद्द संक्रामक रोग है और इसका प्रासाव या transmission कहा जाता है… एक व्यक्ति से दुसरे व्यक्ति तक बेहद्द जल्द फैलता है
जब कोई स्वाइन फ्लू से प्रभावित व्यक्ति खांसता या छीकता है तो मुँह और नाक से निकले छोटी बूंदों के साथ साथ इसके वायरस भी बाहर आ जाते है और हवा में औरकठोर सतह या hard surface पर अगले २४ घंटों तक रह जाते है
हवा में रहने वाली बेहद् छोटी बूँदें किसी भी व्यक्ति ke साँसों के साथ अंदर जाकर संक्रमित या infectious कर सकती है
कठोर सतह पर hard surface पर २४ घंटे और कोमल सतह पर या soft surface जैसे के चमड़ी पर ये वायरस २० घंटे तक जीवित रह सकता है यदि कोई भी व्यक्ति इस वायरस युक्त सूक्ष्म दों से संक्रमित या इस वायरस से infected दरवाजे का हैंडल, computer keyboard , glass , तकिया , तौलिया याremote control जैसी वस्तू को छूता है और इसी संक्रमित infectious हाथों को अपने मुँह या नाक के पास रखता है तो वो व्यक्ति भी स्वाइन फ्लू से पीड़ित हो जाता है

स्वाइन फ्लू के लक्षण क्या है ??? स्वाइन फ्लू के लक्षण आम सर्दी जुखाम जैसे ही होते है लेकिन लापरवाही बरतने पर लक्षण गंभीर हो सकते है
स्वाइन फ्लू के लक्षण कुछ इस तरह के है
सिरदर्द होना, खांसी होना बुखार आना गले में खराश या गले में कुछ अटका है ऐसा महसूस होना
नाक से पानी बहना या नाक जाम हो जाना कमजोरी या थकान,
बदन दर्द मांसपेशियों में खिचाव या muscle cramps भूक ना लगना
उलटी होना, या उलटी जैसा होना और ठंडी लगना, तो दोस्तों ये थे कुछ symptoms जो स्वाइन फ्लू के है स्वाइन फ्लू का उपचार कैसे किया जाता है ? स्वाइन फ्लू के लक्षण पाए जाने पर मरीज़ की जांच की जाती है और अगर blood report positve आये तो उस व्यक्ति को डॉक्टर की देख रेख में अलग bed पर परhospital में रखा जाता है
स्वाइन फ्लू के उपचार के लिए tamiflu नामक दवा रोगी के उम्र और वजन के हिसाब से दी जाती है
रोगी के पूरी तरह से स्वस्थ होने के बाद उन्हें हॉस्पिटल से छुट्टी दी जाती है …स्वाइन फ्लू से ज्यादा खतरा यानि की ज्यादा तकलीफ किन लोगों को हो सकता है ?? ५० वर्ष से ज्यादा उम्र के व्यक्ति
५ वर्ष से कम उम्र के बच्चे
गर्भवती महिला
ऐसे व्यक्ति जिन्हे अन्य बड़ी बीमारी है जैसे high bp , diabetes या cancer
ऐसे व्यक्ति जिनकी रोग प्रतिकारक शक्ति resistance power कमजोर है तो इन लोगो में ज्यादा शक्यता हो सकती है इनको जल्दी infection लग जाये ..दोस्तों स्वाइन फ्लू से बचने के लिए क्या सावधानी लेनी चाहिए ?? स्वाइन फ्लू से बचने के लिए आप अपने डॉक्टर की सलाह से nasovac vaccine ले सकते है ये vaccine की बूंदों को नाक में डाला जाता है इसका एक dose लेने पर स्वाइन फ्लू से २ वर्ष के लिए सुरक्षा मिल सकती है…स्वाइन फ्लू से बचने के लिए अब एक नया vaccine भी निकला है ये vaccine लेने के २१ दिन बाद आपको स्वाइन फ्लू के खिलाफ काफी हद तक सुरक्षा मिल जाती है और ये ये सुरक्षा का असर १ वर्ष तक रहता है खांसी या छीकते समय अपना चेहरा रुमाल या टिश्यू पेपर से ढककर रखें उसके बाद टिश्यू पेपर को डस्ट बिन में फेंक दें या नष्ट कर दे और अपने हाथों को साबुन या hand sanitizer से सांफ कर दे
४) हमेशा खांसते या छीकते वक्त दूसरों से ६ फ़ीट से ज्यादा की दूरी बनाए रखियें
स्वाइन फ्लू से प्रभावित इलाके में चहरे पर मास्क पहने
अपने घर और ऑफिस को साफ़ सुथरा रखें
अपने हाथों को हमेशा खाना खाने से पहले साबुन और पानी से २० सेकंड तक धोये
स्वाइन फ्लू से प्रभावित क्षेत्र में सर्दी जुखाम से पीड़ित व्यक्ति के साथ टेबल या ऑफिस का सामान नहीं बाटना चाहिए बेवजह भीड़ वाले इलाके और हॉस्पिटल में जाने से बचे और ख़ास कर के बच्चों को जाने से रोकें लोगों से अनावश्यक हाथ मिलाना या संपर्क करना टालें
स्वाइन फ़्लुए के लक्षण दिखने पर अपने डॉक्टर से जांच कराएं अपने मित्र , परिवार और जानपहचान के व्यक्तियों से स्वाइन फ्लू सम्बन्धी जानकारी बांटें तो दोस्तों आज के वीडियो में सिर्फ इतना ही… अगर आपके कोई सवाल या सुझाव हो तो मुझे लिख कर भेजना मत भूलिए
अगर आपको ये video पसंद आया हो तो इस video को like और share करना मत भूलिए
तो कल फिर मुलाकात होगी तब तक के लिए take care और good night

2 thoughts on “स्वाइन फ्लू के बारे में जानकारी Swine Flu jankari Symptoms Cure Treatment H1N1 Virus #MEDDIGEST 4

  1. Shreyas Talpade (of Rohit shetty`s GOLMAAL Fame`s )Wife Deepti Talpade is Suffering from Swine Flu as on 20th July 2017, Friends Be careful as a new strain of Swine flu has made a rebound.

  2. Now Aamir Khan is the Down with Swine Flu , Which Is product of Mutated Flu Virus, Mumbaikars Keep Away from Persons Infected with Swine Flu, As Richa Chadda also has got it, Its a Air borne Communicable Disease, Which Requires Quarantine. Only Cure is Oseltamivir Capsules or Tamiflu Capsules.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *